UP Khet Suraksha Yojana : आवारा पशुओं से खेतों को बचाने के लिए UP सरकार ने शुरू की खेत सुरक्षा योजना

UP Khet Suraksha Yojana : UP में किसान भाई गाय, भैंस और अन्य दूध देने वाले जानवरों को पालते हैं। परंतु जब ये जानवर दूध देना बंद कर देते हैं, तो किसान उन्हें ऐसे ही खुल्ला छोड़ देते हैं, जिससे उत्तर प्रदेश में आवारा जानवरों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। ये आवारा जानवर फिर उन्हीं किसान भाइयों की फसलें खाने लगते हैं, जिससे किसानों को काफी नुकसान होता है।

फिर भी, किसान भाई अपनी फसलों को बचाने के लिए तरह तरह के प्रयास करते रहते हैं, परंतु अक्सर उनके प्रयास व्यर्थ हो जाते हैं। तो ऐसे में इन किसानों की मदद के लिए, सरकार ने UP खेत सुरक्षा योजना की शुरुआत की है। इस लेख में, हम आपको बताएंगे कि उत्तर प्रदेश खेत सुरक्षा योजना में क्या-क्या है और इसके लिए आवेदन कैसे करें।

आज हम आपको बताएंगे यूपी मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना 2023, ऑनलाइन आवेदन, सोलर फेंसिंग स्कीम, लाभ, लाभार्थी सूची, पात्रता, दस्तावेज, अधिकारिक वेबसाइट, हेल्पलाइन नंबर (UP Mukhyamantri Khet Suraksha Yojana in Hindi) (Online Apply, Solar Fencing Scheme, Benefit, Beneficiary List, Eligibility, Documents, Official Website, Helpline Number, Latest News)

मुख्य बिंदु

मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना | UP Khet Suraksha Yojana Highlights

योजना का नामUP Khet Suraksha Yojana
शुरू की गईमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा  
संबंधित विभागकृषि विभाग उत्तर प्रदेश  
लाभार्थीराज्य के लघु सीमान्त किसान  
उद्देश्यआवारा जानवरों से फसल की रक्षा करना  
अनुदान राशि60 फीसद या 1.43 लाख रुपए  
बजट राशि350 करोड़ रुपए तय
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन/ऑफलाइन  
अधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च होगी  

यूपी मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना 2023 (UP Khet Suraksha Yojana in Hindi)

खेत सुरक्षा योजना (UP Khet Suraksha Yojana) किसानों की फसलें आवारा पशुओं से बचाएगी और इसकी शुरुआत UP सरकार ने हाल ही में की है। इस योजना के अंतर्गत, सरकार खेतों की चारों ओर सोलर फेंसिंग बाड़ लगाएगी जिसमें 12 वोल्ट का करंट बहेगा। इससे बाड़ें के अंदर घुसने का प्रयास करने वाले पशुओं को थोड़ा सा झटका मिलेगा। यह झटका काफी हल्का होगा, जिससे पशुओं को कोई क्षति नहीं होगी।

इसके साथ ही, एक सायरन भी बजेगा जो छुट्टा या जंगली जानवरों जैसे नीलगाय, बंदर, सूअर आदि को फसलों को हानि पहुंचाने से रोकेगा। इसमें लघु-सीमांत किसानों को सोलर फेंसिंग बाड़ लगाने के लिए 60% या 1.43 लाख रुपये की सब्सिडी सरकार देगी। इस योजना का लाभ उठाने के लिए जल्द ही आवेदन शुरू होंगे। समय पर आवेदन की तिथि से आगाह होने के लिए हमें फॉलो करें।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना का उद्देश्य (Mukhyamantri Khet Suraksha Yojana Objective)

उत्तर प्रदेश में किसान भाई छोटे और बड़े स्टार पर खेती का काम करते है, लेकिन यहां आवारा जानवरों की समस्या भी बड़ी है। इन आवारा जानवरों के आने से खेतों में फसलों को नुकसान होता है, जिससे किसान भाइयों को काफी परेशानी होती है। जब वे अपने घर जाते हैं, तो ये जानवर उनके खेतों में चारों ओर घूमते रहते हैं और फसलों को नुकसान पहुंचते हैं।

इस समस्या का समाधान करने के लिए सरकार ने उत्तर प्रदेश खेत सुरक्षा योजना की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत, खेतों को बाड़ से घेरने का प्रयास किया जाएगा और बाड़ में करंट चलाया जाएगा। इससे आवारा जानवर खेत में नहीं घुस पाएंगे और फसलों की रक्षा होगी। इस योजना से किसान भाइयों को आर्थिक नुकसान कम होगा और उनकी फसलों का उत्पादन भी सुनिश्चित होगा।

यह भी पढ़ें: UP Nand Baba Milk Mission Scheme | किसानो को दूध बेचने पर सरकार दे रही अनुदान

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना के लाभ एवं विशेषताएं (UP Khet Suraksha Yojana Benefit and Features)

  • उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने खेत सुरक्षा योजना(UP Khet Suraksha Yojana) की शुरुआत की है।
  • इसे सोलर फेंसिंग योजना के नाम से भी जाना जाता है।
  • इसका मुख्य उद्देश्य किसान भाइयों की मदद करना है।
  • सरकार ने इस योजना के लिए लगभग 350 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया है।
  • योजना के अंतर्गत, लघु सीमांत किसानों को 60 प्रतिशत या 1,43,000 रुपये का अनुदान प्रदान किया जाएगा। यह अनुदान प्रति हेक्टेयर की लागत पर आधारित होगा।
  • खेत सुरक्षा योजना के ड्राफ्ट को उत्तर प्रदेश के गृह मंत्रालय द्वारा तैयार किया गया है और जल्द ही इसे कैबिनेट से मंजूरी प्राप्त होने की उम्मीद है। इसके बाद, यह योजना उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में शुरू की जाएगी।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना में पात्रता (Mukhyamantri Khet Suraksha Yojana Eligibility)

  • योजना का फायदा सिर्फ उत्तर प्रदेश के किसानों को ही मिलेगा।
  • ० राज्य के लघु एवं सीमांत किसान को इस योजना के लाभ लाभान्वित किया जाएगा।
  • 18 साल अथवा उससे अधिक की उम्र के किसान भाई योजना में आवेदन कर सकते हैं।
  • योजना का फायदा महिला और पुरुषों दोनों का मिलेगा।

सोलर फेसिंग क्या होती है ?

खेत सुरक्षा योजना एक ऐसी योजना है जो किसानों के खेतों की फसल को पशुओं से बचाने के लिए सोलर फेंसिंग को लागू करती है। इस योजना के अंतर्गत, खेतों में लगाई जाने वाली सोलर फेंसिंग बाड़ में मात्र 12 वोल्ट का करंट प्रवाहित होता है, जो सिर्फ पशुओं को हल्के से झटके मारता है और उन्हें कोई क्षति नहीं पहुंचाता।

इसके साथ ही, सायरन की आवाज़ भी सुनाई देती है जो छुट्टा या जंगली जानवरों जैसे नीलगाय, बंदर, सुअर आदि को खेतों में खड़ी हुई फसल को क्षति नहीं पहुंचने से रोकती है। इस योजना के अन्तर्गत, सरकार लघु-सीमांत किसानों को प्रति हेक्टेयर लागत का 60 प्रतिशत या 1.43 लाख रुपये का अनुदान भी प्रदान करेगी। योजना का ड्राफ्ट कृषि विभाग द्वारा तैयार किया गया है और शीघ्र ही इसे कैबिनेट में भेजा जाएगा। जब मंजूरी मिल जाएगी तो योजना को पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: UP Vridha Pension Yojana 2023| बुजुर्ग नागरिकों को 500 की जगह मिलेंगे इतने रूपये, नई पेंशन स्कीम हुई चालु

यूपी में सोलर फेंसिंग योजना पहले से जारी है

बुंदेलखंड में निराश्रित पशुओं की समस्या का समाधान करने के लिए वहां बुंदेलखंड पैकेज के अंतर्गत सोलर फेंसिंग योजना पहले से ही चल रही है। इस योजना के माध्यम से किसानों की फसलों को पशुओं से सुरक्षित रखने के लिए खेतों को सोलर फेंसिंग बाड़ से घेरा जाता है।

इस बाड़ में सौर ऊर्जा के जरिए 12 वोल्ट का करंट प्रवाहित होता है, जिससे केवल पशुओं को हल्के से झटके मिलते हैं और उन्हें कोई हानि नहीं पहुंचती। बाड़ से पशु के टकराने पर हल्के करंट के साथ सायरन की आवाज़ भी सुनाई देती है, जिससे मवेशी और जंगली जानवर जैसे नीलगाय, सुअर, बंदर आदि खेत में खड़ी हुई फसल को क्षति नहीं पहुंचा पाएंगे।

सीएम खेत सुरक्षा योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

० आधार कार्ड
० स्थाई निवास प्रमाण पत्र
० आय प्रमाण पत्र
० जमीनी दस्तावेज
० बैंक खाता
० मोबाइल नंबर
० पासपोर्ट साइज फोटो

योजना का बजट 350 करोड़ रुपये तय

पूरे प्रदेश में खेत सुरक्षा योजना को राज्य सरकार की मुख्य योजना के रूप में लागू करने की तैयारी हो रही है। इस योजना के लिए प्रस्तावित बजट को 75 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 350 करोड़ रुपये कर दिया गया है। इसके अंतर्गत, सरकार लघु-सीमांत किसानों को प्रति हेक्टेयर खर्च पर 60 प्रतिशत या 1.43 लाख रुपये का अनुदान भी प्रदान करेगी। कृषि विभाग ने इस योजना का ड्राफ्ट पूरा कर लिया है और इसे जल्दी ही कैबिनेट को स्वीकृति देने की तैयारी में है। कैबिनेट की मंजूरी के बाद, योजना को पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा।

चारागाहों को अवैध कब्जों से मुक्त कराने के लिए भी चल रहा अभियान

खेतों को घुमते हुए पशुओं द्वारा होने वाले नुकसान का मुद्दा एक महत्वपूर्ण चिंता का कारण बन जाता है, विशेष रूप से जब ये पशु निकटवर्ती भोजन नहीं पा पाते। इस समस्या का समाधान करने के लिए ग्रामीण भूमि की महत्वता बढ़ जाती है। पशुपालन और दुग्ध विकास विभाग ने 11 जुलाई को शुरू होने वाले एक अभियान के माध्यम से इस समस्या का समाधान करने का प्रयास किया है, जो 25 अगस्त तक चलेगा।

यह ध्यान देने योग्य है कि छुट्टे पशुओं द्वारा खेतों को नुकसान पहुंचाने की यह समस्या पूरे राज्य में एक समान रूप से प्रासंगिक है। विपक्ष के दल समय-समय पर इस मुद्दे को चर्चा करते हैं, और उनके प्रतिनिधि भी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करते हैं। इन कदमों को उठाने से आगामी सामान्य चुनाव में यह मुद्दा महत्वपूर्ण समस्या न बनने में मददगार सिद्ध हो सकते हैं।

UP Khet Suraksha Yojana 2023 के लिए आवेदन कैसे करें?

यदि आप मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना के तहत आवेदन करने का इच्छुक हैं, तो आपको थोड़ा इंतजार करना होगा क्योंकि वर्तमान में उत्तर प्रदेश सरकार ने इस योजना के तहत आवेदन करने से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी को सार्वजनिक नहीं किया है।

सरकार ने केवल यह घोषित किया है कि इस योजना के अंतर्गत लघु सीमांत किसानों को प्रति हेक्टेयर खर्च पर 60 फीसद या 1.43 लाख रुपये का अनुदान प्रदान किया जाएगा। जब सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट को लॉन्च किया जाएगा, हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सूचित कर देंगे ताकि आप इस योजना के तहत आवेदन करके लाभान्वित हो सकें।

UP Khet Suraksha yojana

FAQs :

मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना को किस राज्य में और किसने शुरू किया है?

Khet Suraksha Yojana को उत्तर प्रदेश में 21 जुलाई 2023 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा शुरू किया गया है। जल्द ही इसके आवेदन शुरू होंगे।

मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना का दूसरा नाम क्या है?

सोलर फेसिंग

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना का फायदा किसे मिलेगा?

 उत्तर प्रदेश के लघु और सीमान्त किसान भाइयों को

UP खेत सुरक्षा योजना क्या है?

मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना के माध्यम से राज्य के किसानों की फसलों को आवारा पशुओं से बचाने के लिए सोलर फेंसिंग की सुविधा का अनुदान किया जायेगा।

CM Khet Suraksha Yojana में कितना रूपया मिलेगा ?

सीएम खेत सुरक्षा योजना के तहत लघु एवं सीमांत किसानों को सरकार द्वारा प्रति हेक्टेयर लागत पर 60 फीसद या 1.43 लाख रुपए का अनुदान दिया जायेगा।

1 thought on “UP Khet Suraksha Yojana : आवारा पशुओं से खेतों को बचाने के लिए UP सरकार ने शुरू की खेत सुरक्षा योजना”

Leave a Comment